Homeदेशसनातन धर्म विवादित टिप्पणी : बिहार में तमिलनाडु के सीएम और उनके...

सनातन धर्म विवादित टिप्पणी : बिहार में तमिलनाडु के सीएम और उनके बेटे के खिलाफ दायर किया गया परिवाद

यह दावा करते हुए कि सनातन धर्म पर तमिलनाडु के मंत्री उदयनिधि स्टालिन की टिप्पणी ने हिंदुओं की भावनाओं को ‘आहत’ किया है, बिहार में मुजफ्फरपुर के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष एक निजी शिकायत दायर की गई है। तमिलनाडु के सीएम एमके स्टालिनऔर उनके बेटे सह राज्य सरकार में मंत्री उदयनिधि स्टालिन के खिलाफ 4 सितंबर को मुजफ्फरपुर कोर्ट में परिवाद दायर कराया गया है.सुधीर कुमार ओझा नाम के एक वकील ने शिकायत दर्ज कराई कि यह बयान राजनीतिक लाभ के लिए समाज में दुश्मनी फैलाने और कुछ अन्य धर्मों के लोगों को खुश करने के इरादे से दिया गया था।परिवाद को कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है. कोर्ट की ओर से इस मामले में सुनवाई के लिए तिथि 14 सितंबर की तारीख दी गई है.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के बेटे और राज्य सरकार में मंत्री उदयनिधि स्टालिन ने एक निजी कार्यक्रम में बड़े पैमाने पर विवाद खड़ा करते हुए कहा, ”कुछ चीजों का विरोध नहीं किया जा सकता, उन्हें खत्म कर देना चाहिए। हम डेंगू, मच्छर, मलेरिया या कोरोनोवायरस का विरोध नहीं कर सकते, हमें उन्हें खत्म करना होगा। उसी प्रकार हमें सनातन धर्म का विरोध नहीं बल्कि उसे मिटाना है।”

‘बयान जानबूझकर दिया गया था’
जैसा कि शिकायत में बताया गया है, यह बयान तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के आदेश पर दिया गया था और जानबूझकर किया गया था। इसका मकसद करोड़ों हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुंचाना था. बयान को सुनने और पढ़ने के बाद शिकायतकर्ता और गवाहों का दिल टूट गया और इससे पूरे देश में हिंदू और सनातनी धर्म के अनुयायियों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची है। चूंकि शिकायतकर्ता और गवाह सनातन धर्म में विश्वास करने वाले लोग हैं, इसलिए उनकी भावनाएं आहत हुई हैं। शिकायतकर्ता ने उदयनिधि स्टालिन के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 500, 504, 295, 295 ए, 298, 120 (बी) के तहत कानूनी कार्रवाई की मांग की है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments