पतरातू थाना प्रभारी, प्रशिक्षु दरोगा व दो सिपाही निलंबित

Estimated read time 1 min read

रामगढ़ : गलत तरीके से छापेमारी कर हथियार के साथ राजेश राम सहित दो लोगों की गिरफ्तारी मामले में एसपी प्रभात कुमार ने पतरातू थाना प्रभारी अजीत कुमार भारती, प्रशिक्षु दरोगा मुराद हसन व दो सिपाही को निलंबित कर दिया गया है। वहीं पतरातू सर्किल इंस्पेक्टर विपिन कुमार से स्पष्टीकरण पूछा है। एसपी ने पतरातू थाना प्रभारी के रूप में सब-इंस्पेक्टर दुर्गा शंकर मंडल को प्रतिनियुक्त किया है।

हजारीबाग प्रक्षेत्र के डीआइजी अमोल वेणुकांत होमकर ने मामले की जांच कर एसपी को उक्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया था। विदित हो कि गत चार जून को पतरातू पुलिस ने बालू के अवैध कारोबार में हथियार के दम पर वर्चस्व जमाने के मामले में राजेश राम व शिवम माली गिरफ्तार व पिस्टल, कारतूस के साथ गिरफ्तार किया था।

मामले में एसपी ने प्रेस वार्ता कर मामले का खुलासा करते हुए कहा था कि दोनों को स्कार्पियो से सवार होकर रांची से पतरातू आने के क्रम में पिठौरिया घाटी से उतरते ही नलकारी पुलिस के पास पुलिस ने पकड़ लिया था। राजेश राम ने बालू के कारोबार में कब्जा जमाने के लिए इंट्री मारी थी। उसकी मंशा थी कि पतरातू से लेकर भुरकुंडा तक दामोदर नदी तट से निकाले जाने वाले बालू में इसका नाम भी शामिल हो जाए। राजेश राम अपने नाम पर आधा दर्जन से अधिक घाट चलाना चाहता था। यह काम क्षेत्र में सक्रिय पांडे व श्रीवास्तव गिरोह से हटकर वह कर रहा था। मामले में दोनों को जेल भेजे जाने के बाद राजेश राम ने के परिजनों ने डीजीपी से शिकायत की थी कि गलत तरीके से पुलिस ने कार्रवाई की है। राजेश राम को मोराहाबादी, रांची स्थित किराये के फ़्लैट पुलिस उसे उठा कर ले गया था। पुलिस एक साजिश के तहत मनगढ़ंत कहानी बनाकर व हथियार देकर झूठी प्राथमिकी बनाकर जेल भेजा गया है। राजेश राम की मोराहाबादी स्थित फ्लैट में पुलिस के पहुंचने व ले जाने से संबंधित सीसीटीवी फुटेज भी डीजीपी को उपलब्ध कराया गया था। मामले की शिकायत मिलते हीं कार्रवाई करते हुए डीजीपी ने हजारीबाग के डीआइजी को जांच करने का निर्देश दिया था। डीआइजी दो दिन लगातार पतरातू व रांची जाकर मामले की जांच की थी। जांच के बाद डीआइजी के निर्देश पर एसपी ने छापेमारी दल में शामिल पतरातू थाना प्रभारी, प्रशिक्षु दरोगा व दो सिपाही को निलंबित करने व सर्किल इंस्पेक्टर से स्पष्टीकरण पूछने की कार्रवाई की।

मामले की जांच की गई है। पतरातू थाना प्रभारी, दरोगा व दो सिपाही को निलंबित करने की कार्रवाई की गई है। इंस्पेक्टर से स्पष्टीकरण पूछा गया है। शिकायत की जांच जारी है। पूरी जांच रिपोर्ट डीजीपी को सौंपी जाएगी।

– एवी होमकर, डीआइजी हजारीबाग।

You May Also Like

More From Author