होने वाले NEET / JEE के परीक्षा के विरोध में NSUI ने केंद्र सरकार के खिलाफ किया धरना प्रदर्शन

Estimated read time 1 min read

NEET / JEEरांची 28 अगस्त 2020 को प्रदेश एनएसयूआई के द्वारा NEET और JEE के तारीखों के विरोध में राजभवन के समक्ष धरने के बाद हस्ताक्षर अभियान चलाया गया, जिसकी अध्यक्षता एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष सैयद आमिर हाशमी ने की | हस्ताक्षर अभियान की शुरुआत झारखंड सरकार में मंत्री व प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष रामेश्वर उरांव ने हस्ताक्षर कर की | इस अभियान में प्रदेश कांग्रेस, प्रोफेशनल कांग्रेस, यूथ कांग्रेस, महिला कांग्रेस, व झारखंड कांग्रेस के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया व JEE एवम NEET की परीक्षाओं को रद्द करने की एक स्वर मांग की | NSUI ने यह साफ़ कहा की हम परीक्षा के विरोध मे नहीं है, हमें इस समय पर परीक्षा से एतराज़ है और हम यह साफ बता देना चाहते है केंद्र सरकार को की इन तारीख़ों को अविलम रद्द करे और नई तारीख़ों का ऐलन स्तिथि सामान्य होने पर ही हो । इस हस्ताक्षर अभियान प्रदेश के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर, मानस सिन्हा, केशव महतो कमलेश, संजय लाल पासवान, ने अपना मार्गदर्शन दिया व एनएसवाई की इस लड़ाई में हमेशा साथ रहने की बात कही | प्रदेश प्रवक्ता राकेश किरण महतो व युवा कांग्रेस के प्रवक्ता उज्जवल प्रकाश तिवारी ने कहा कि एनएसयूआई काफी सराहनीय रूप से अपने शीर्ष नेतृत्व में काम कर रही है |

प्रदेश एनएसयूआई के अध्यक्ष सैयद आमिर हाशमी ने कहा कि इन परीक्षाओं के दौरान छात्रों का जो हुजूम परीक्षा केंद्रों पर उमड़ेगा और छात्रों को जो भी समनाओ का सामना करना पड़ेगा इसकी जिम्मेवारी कौन लेगा । इन सभी चीजों से यह मोदी सरकार अपनी विफलताओं को छुपा कर लोगों को उलझने का काम कर रही है |

मौके पर मौजूद प्रदेश प्रोफेशनल कांग्रेस के अध्यक्ष आदित्य विक्रम जैसवाल ने कहा कि अगर केंद्र सरकार परीक्षाओं की तारीख पर चिंतन मंथन नहीं करती है, तो यह साफ साबित हो जाएगा कि इस कोरोना काल में जहां एक ओर सभी साधन संसाधन बंद पड़ी है वहीं दूसरी ओर भाजपा की सरकार छात्रों को क्रोना कैरियर बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही, सरकार का तर्क बच्चों के भविष्य का हैं, जब भविष्य के भार उठाने वाले कंधे का जीवन ही खतरे के फंदे पर लटक जाएगा तो आप किसके सहारे भविष्य निर्माण की बात कर रहे है|

युवा कोंग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अनूप सिंह ने भी इस हस्ताक्षर अभियान में आकर हस्ताक्षर किया व छात्रों पर हो रही अत्याचार को उन्होंने सरकार की ओझल मानसिकता करार दीया | उन्होंने कहा कि जब पूरा देश अस्त-व्यस्त है तो मुझे समझ नहीं आ रहा सरकार परीक्षा लेने पर क्यों अपना फोकस कर रही है |

मौके पर मौजूद प्रदेश महासचिव राजीव कुमार ने कहा कि हम किसी परीक्षा के विरोध में नहीं है हमें परीक्षा की तारीख को से नाराजगी है और मैं यह केंद्र सरकार से मांग करता हूं कि इसे अविलंब कैंसिल करते हुए जब स्थिति सामान्य हो जाए तो हीं तिथियों का ऐलान किया जाए |

मौके पर मौजूद प्रदेश सचिव अमरजीत कुमार ने कहा कि जहां एक ओर पूरे देश में विकट परिस्थिति बनी हुई है, वहीं दूसरी ओर केंद्र शासित भाजपा सरकारJEE और NEET की परीक्षा उसके तारीखों का ऐलान करके यह साबित करती है कि वह छात्र विरोधी सरकार है और उसे छात्रों की सुविधा और असुविधा से उनका कोई लेना-देना नहीं ।
उन्होंने कहा कि छात्र जिनके पास अपना कोई संसाधन नहीं है कहीं आने जाने के लिए वह कैसे अपने परीक्षा केंद्रों तक पहुंचेंगे, क्यूँकि रेल, बस, किसी तरह की कोई भी सुविधा उपलवद नहीं है,
साथ ही साथ उन्होंने यह सवाल पूछा कि छात्र रहेंगे कहां व खाएंगे कहां क्योंकि सारे होटल-लॉज बंद पड़े हैं|

मौके पर एनएसयूआई के मुख्य रूप से आनंद,गौरव, नुसरत प्रवीण, प्रिया, सोनू, आयुष, गौरव सिंह, कुंदन, रमेश, विष्णु आदि मुख्य रूप से मौजूद थे |

You May Also Like

More From Author