Homeझारखण्डछत्तीसगढ़ में मरांडी : सट्टा और जनता के शोषण का काम कर...

छत्तीसगढ़ में मरांडी : सट्टा और जनता के शोषण का काम कर रही…छत्तीसगढ़ को ATM कार्ड की तरह इस्तेमाल करने वाली कांग्रेस सरकार

महादेव बेटिंग ऐप मामले के एक आरोपी शुभम सोनी ने एक वीडियो बयान जारी कर दावा किया है कि वह सीएम भूपेश बघेल के कहने पर दुबई गया था.मामले में झारखण्ड भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा ”छत्तीसगढ़ का एक युवा राह भटक कर सट्टेबाजी के धंधे में उतर गया lमुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने महादेव सट्टा एप्प के मालिक शुभम सोनी का मार्गदर्शन करने की बजाय उसे सट्टा कारोबार के लिए प्रेरित किया lभूपेश ने शुभम सोनी को दुबई भेज सट्टा का काला साम्राज्य खड़ा करने में सहायता की l छत्तीसगढ़ के लाखों युवाओं को जुए की लत लगाकर भूपेश बघेल और उनके पुत्र बिट्टू ने ‘प्रोटेक्शन’ देने के नाम पर शुभम सोनी से 508 करोड़ रुपए भी ऐंठ लिए lये कांग्रेसी कभी किसी के सगे नहीं हो सकते l इन्हें बस पैसे और अपने परिवार की चिंता सताये रहती है l जनता इन कांग्रेसियों के लिए सिर्फ सत्ता तक पहुंचने की एक सीढ़ी मात्र है!”वही मरांडी ने आज छत्तीसगढ़ के डौंडीलोहरा विधानसभा क्षेत्र में चुनावी सभा को संबोधित किया lउन्होंने कहा कि, भूपेश बघेल की सरकार छत्तीसगढ़ में पिछले पांच सालों से सिर्फ अवैध शराब, सट्टा और जनता के शोषण का काम कर रही है lकांग्रेस सरकार के द्वारा दुबई से रायपुर, रायपुर से सोनिया गांधी तक जनता का पैसा पहुंचाया जा रहा है lछत्तीसगढ़ को ATM कार्ड की तरह इस्तेमाल करने वाली कांग्रेस सरकार को इस बार जनता सत्ता से बाहर करेगी l
बता दें कि रविवार को मामले में एक आरोपी ने एक वीडियो बयान जारी कर दावा किया कि खुद मुख्यमंत्री ने उसे दुबई (UAE) भागने के लिए कहा था।महादेव ऐप से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा वांछित शुभम सोनी ने दुबई से एक वीडियो बयान में कहा कि वह ऐप का असली मालिक है और उसने 2021 में कंपनी बनाई थी और जुआ व्यवसाय था। सब कुछ अच्छा चल रहा था जब इसे हर तरफ से ध्यान मिलना शुरू हुआ और इस प्रकार सुरक्षा की आवश्यकता थी क्योंकि कुछ लोगों को गिरफ्तार किया जा रहा था।सोनी ने आगे कहा कि फिर उनका संपर्क वर्मा नाम के एक व्यक्ति से हुआ, जिसने प्रति माह 10 लाख रुपये की सुरक्षा राशि की मांग की।“प्रति माह 10 लाख रुपये का भुगतान शुरू होने के बाद, एक बार फिर हमारे लोग गिरफ्तार हो गए और मैंने वर्मा को फोन किया और उनसे पूछा। इसके बाद उन्होंने कहा कि मुझे किसी हाई प्रोफाइल व्यक्ति के साथ आपकी बैठक की व्यवस्था करने दीजिए।” सोनी ने आरोप लगाया कि इसके बाद वर्मा उन्हें मुख्यमंत्री और एक अन्य व्यक्ति के पास ले गए, जो बैठक में मौजूद थे।वीडियो में उन्हें बोलते हुए सुना जा सकता है, “मैंने ईडी को अपना बयान लिखित में दे दिया है।”

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments