MDA 2020 कार्यक्रम के तहत खिलाए गए दवा की विवरणी

Estimated read time 1 min read

MDAफाईलेरिया उन्नमूलन कार्यक्रम के तहत वर्तमान में देवघर जिला अतंर्गत दो वर्ष से अधिक उम्र के सभी व्यक्तियों को (गर्भवती महिलाऐं एवं गंभीर बीमार व्यक्ति को छोड़कर) फाईलेरियारोधी दवा डीईसी एवं अल्बेडाजोल की दवा का वितरण किया जा रहा है एवं इस हेतु देवघर जिलान्तर्गत निर्धारित लक्ष्य के विरूद्ध दिनांक 10 अगस्त 2020 से 12 अगस्त 2020 तक 3 दिनों में बूथ पर कुल 716272 व्यक्तियों को फाईलेरिया रोधी दवा खिलाई गयी, जो कि निर्धारित लक्ष्य का 45.49 प्रतिशत है। साथ हीं उक्त 03 दिनों में प्रतिकूल प्रभाव वाले व्यक्तियों की कुल संख्या 242 रही।
डक्। 2020 कार्यक्रम के तहत खिलाए गए दवा की विवरणी निम्नवत हैः-
1. जसीडीह अन्तर्गत कुल आबादी-210237 के तहत् एलबंेडाजोल की 29353.0 एवं डीईसी की 73465 की गोली महिला व पुरूषों को खिलायी गयी।
2. मोहनपुर अन्तर्गत कुल आबादी-219369 के तहत् एलबंेडाजोल की 26348.0 एवं डीईसी की 66870 की गोली महिला व पुरूषों को खिलायी गयी।
3. सारवां अन्तर्गत कुल आबादी-208177 के तहत् एलबंेडाजोल की 22750.0 एवं डीईसी की 56500 की गोली महिला व पुरूषों को खिलायी गयी।
4. सारठ अन्तर्गत कुल आबादी-211127 के तहत् एलबंेडाजोल की 30555.0 एवं डीईसी की 77637 की गोली महिला व पुरूषों को खिलायी गयी।
5. पालोजोरी अन्तर्गत कुल आबादी-201201 के तहत् एलबंेडाजोल की 27746.0 एवं डीईसी की 69253 की गोली महिला व पुरूषों को खिलायी गयी।
6. मधुपुर शहरी अन्तर्गत कुल आबादी-67976 के तहत् एलबंेडाजोल की 6223.0 एवं डीईसी की 16557 की गोली महिला व पुरूषों को खिलायी गयी।
7. मधुपुर ग्रामीण अन्तर्गत कुल आबादी-197911 के तहत् एलबंेडाजोल की 19663.0 एवं डीईसी की 50157 की गोली महिला व पुरूषों को खिलायी गयी।
8. करौं अन्तर्गत कुल आबादी-195953 के तहत् एलबंेडाजोल की 33315.0 एवं डीईसी की 83112 की गोली महिला व पुरूषों को खिलायी गयी।
9. देवीपुर अन्तर्गत कुल आबादी-133503 के तहत् एलबंेडाजोल की 16567.0 एवं डीईसी की 41875 की गोली महिला व पुरूषों को खिलायी गयी।
10. देवघर शहरी अन्तर्गत कुल आबादी-143996 के तहत् एलबंेडाजोल की 10285 एवं डीईसी की 27257 की गोली महिला व पुरूषों को खिलायी गयी।

ज्ञातव्य है कि फाइलेरिया एक ऐसी बीमारी है, जिसकी वजह से प्रभावित अंगो जैस हाथ, पांव का फूलना और हाईड्रोसिल होता है। फाइलेरिया एक वूचेरिया बैन्क्राफ्टी रोगाणु की वजह से होता है, जो क्यूलेक्स मच्छर के द्वारा फैलता है एवं क्यूलैक्स मच्छर जमे हुए गंदे पानी से पैदा होते है। ऐसे में फाईलेरिया के उपचार हेतु लोगों को डीईसी एवं अलबेण्डाजोल गोली की खुराक खिलायी जाती है, ताकि इस बीमारी पर नियंत्रण पाया जा सके।

जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी,
देवघर।

You May Also Like

More From Author