झारखण्ड के मज़दूर Lockdown के वजह से चेन्नई में फसे

Estimated read time 1 min read

अजय और उनके साथी 6 दिन मेहनत कर के अपने परिवार के लिए पैसे कमाते है, शनिवार को उन्हें उनकी मजदूरी मिली कुछ पैसे पास रख कर उन लोगो ने सब अपने घरों में भेज दिए। अब हाल ये है की न उनके पास खाने को पैसे है न ही किराया देने के।

इस कठिनाई भरे वक्त में अजय का साथ एक हाजी साहब ने दिए। अजय और उसके साथियो ने हाजी साहब के यहां कुछ समय पहले काम किया था , हाजी साहब को जब उनकी इस हालत का पता लगा तो उन्होंने उनकी मदद करने के लिए कुछ राशन का इंतज़ाम किया । हाजी साहब ने 25 किलो चावल, 20 किलो आटा, 10 लीटर तेल, मूंग मसूर की 8 किलो दाल पहुंचाए । अब अजय और उनके साथियो के सामने दो बड़ी समस्या खड़ी है ,पहली तो 100 लोगो के लिए खाने का इंतज़ाम करना और दूसरा उनके घर का किराया देना क्योकि किराए के लिए माकन मालिक जल्द ही उनके सर पर चढ़ जाएगा ।

इस समस्या पर गोड्डा की विधायक दीपिका पांडेय ने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता लोगों को खाना उपलब्ध कराना है। लेकिन जब उन्हें पता चला की उनके 25 कमरों के किराए देना बाकि है तब उन्होंने कहा कि हेमंत जी तमिलनाडु सरकार से बात कर झारखण्ड के फंसे इन लोगों की मदद ज़रूर करेंगे, जिस तरह झारखण्ड के मजदूरों को केजरीवाल के सहायता से मदद पहुंचाया जा रहा है उन्हें भी मदद पहुचाई जाएगी । MLA दीपिका ने सोर्स से उन लोगों का नम्बर मांगा और कहा कि उन लोगों तक हमारा नम्बर पहुंचा दें। उन लोगो के परिवार को काफी चिंता हो रही है और साथ ही उन्हें ये भरोसा भी है की हेमंत की सरकार उन लोगो के परिजनों को घर लाने की कोशिश करेगी ।

You May Also Like

More From Author